बुधवार, 14 सितंबर 2016

एक ट्रांसजेंडर की कहानी, उन्हीं की जुबानी: मनाबी बंदोपाध्याय (manabi bandhopadhyay)


बेशक भारत में कानूनन तौर पर थर्ड जेंडर को मान्यता मिल गई हो मगर भारतीय समाज ने अभी तक भी तीसरे लिंग वर्ग (थर्ड जेंडर) को पूरी तरह स्वीकार नही किया है। आज भी थर्ड जेंडर को समाज में तिरस्कार, हीन भावना और अपमान की नजरों से देखा जाता है। ये कहना है देश की पहली ट्रांसजेंडर प्रिंसिपल बनी मनाबी बंदोपाध्याय का। जिन्होंने विपरीत सामाजिक परिस्थितियों में अपने संघर्ष के बुते यह मुकाम हासिल किया। अपने लगभग 35 साल के संघर्ष से समाज को आइना दिखाते हुए मनाबी आज सभी के लिए एक मिशाल है। वर्तमान में मनाबी पश्चिम बंगाल के कृष्णा महिला कॉलेज में बतौर प्रिंसिपल कार्यरत है।

ट्रांसजेंडर होने के कारण कई बार मनाबी के सामने इतनी विकट चुनौतियां आई कि आत्महत्या तक की बात दिमाग में छाने लगती, मगर वह हिम्मत के साथ डटती, चुनौती का सामना करती और उसके बाद फिर एक नई चुनौती सामने खड़ी मिलती। 35 सालों तक यही चलता रहा। मंजिल का पता नही था, संघर्ष चरम पर था। लगभग 35 सालों के बाद अब मनाबी को पश्चिम बंगाल के कृष्णा महिला कॉलेज का प्रिंसिपल बनाया गया तो उन्हें लगा कि अब जाकर उन्हें समाज में एक सम्मानजनक स्थान मिला। अपने संघर्ष की दास्तां शेयर कर रही है मनाबी-

शरीर पुरुष का था, इसमें मेरी क्या गलती
मेरा जन्म पश्चिम बंगाल के नैहाटी कस्बे में 25 सिंतबर 1964 को पुत्र के रुप में हुआ था, लेकिन जैसे-जैसे में 5-6 साल की हुई तो मुझे लड़कियों के कपड़े पहनना अच्छा लगने लगा। मेरा नाम भी सोमनाथ था। स्कूल में भी मैं लड़कियों के खेल खेलना पसंद करती थी। घर में मेरे अलावा दो बहनें ओर थी। मुझे बहनों के कपड़े पहनने का मन होता, मगर मां डांट देती, फिर भी मैं छिपकर उनके कपड़े पहन लेती, कपड़े पहनकर मेरी आत्मा तृप्त-सी हो जाती। मैं खुद को पूर्ण महसूस करती थी। मगर परिवार वालों को यह रास नही आता। कई बार पिताजी ने मेरी पिटाई भी की। मुझे हमेशा लगता कि मैं लड़का नही लड़की हूं और लड़का होने का बोझ ढ़ो रही हूँ। कई बार तो इतना परेशान हो जाती कि मन करता इन सबको छोड़कर कही दूर भाग जाऊं।

स्कूल में बच्चें बनाते थे मजाक
जब मैं स्कूल में पढ़ती थी तो कोई मुझसे दोस्ती नही करता था, किसी दिन यदि मैं स्कूल नही जाती तो कोई मुझे बीते दिन की पढ़ाई के बारे में नही बताता था। यही से मुझे एक सकारात्मक ऊर्जा भी मिली और मैंने आश्रित होना छोड़ दिया, दूसरे बच्चों से पूछना छोड़ दिया। यदि स्कूल नही भी जाती तो भी खुद ही पढ़ाई करती, इसका परिणाम यह हुआ कि मैं कक्षा में अव्वल आने लगी। ग्रेजुएशन में दाखिला लेने पर भी मेरा मजाक बनाया गया। एक बार तो मुझे मेरे सहपाठियो द्वारा कमरे में बंद तक कर दिया गया। अब तक भी मैं घुंट-घुंट कर जी रही थी क्योंकि पोशाक मुझे लड़कों की पहननी होती थी जोकि मुझे बिल्कुल भी पंसद नही था। मेरी व्यवहार शैली देखकर छात्र मेरा मजाक बनाते। लेकिन मुझमें तबतक सहनशक्ति विकसित हो चुकी थी और मैं हर तिरस्कार को अपना मुकद्दर समझकर भूल जाती। मैंने जाधवपुर विश्वविद्यालय से एमए में टॉप किया था। उसके बाद 2006 में थर्ड जेंडर पर पीएचडी की।

2003 में ऑपरेशन के बाद पूरी हुई मुराद
1995 में कॉलेज में पढ़ाना शुरू कर दिया था। तभी मैंने अपना सेक्स चेंज कराने की ठान ली थी क्योंकि जो अपमान मैं इतने समय से ढ़ो रही थी, मुझे लगता था कि सेक्स चेंज कराने के बाद मुझे इससे छुटकारा मिल जाएगा। इसी दौरान मैंने अकेलापन दूर करने के लिए ट्रांसजेंडरों के लिए पहली मैगजीन 'ओब-मानबनिकाली थी जिसका हिन्दी मतलब था- उप मानव। सेक्स चेंज कराने के लिए ऑपरेशन में 5-6 लाख रुपये लगते थे। जोकि मैंने 2003 तक इकट्ठे कर लिए और उसके बाद अपना ऑपरेशन कराया। ऑपरेशन के बाद लगा कि मेरा वजूद पूरा हो गया हैं। मगर सामाजिक तौर पर मुझे तब भी नही स्वीकारा गया। जेंडर चेंज करवाने के बाद उन्हेंन मारा-पीटा गयारेप तक करने की कोशिश की गई, उनके अपार्टमेंट को आग तक लगा दी गई, लेकिन मैंने हार नही मानी और अपना नाम सोमनाथ से मनाबी (मनाबी का अर्थ है मानवता) रख दिया।

ट्रांसजेंडरों को नही करने देते स्ट्रग्ल
स्ट्रग्ल तो सभी करते हैं, मगर ट्रांसजेंडरों को समाज में एक बड़ा तबका स्ट्रग्ल नही करने देता। मेरे साथ भी यही हुआ। मुझे आज तक समझ नही आया कि समाज में हम जैसे लोगों के प्रति इतना गुस्सा क्यों रहता है? हर जगह पक्षपात का शिकार होना पड़ता है। लेकिन मैंने हार नही मानी, स्ट्रग्ल किया और आज इस मुकाम पर पहुंची। पहले मैं झारग्राम कॉलेज में बतौर प्रोफेसर नौकरी करती थी। वहां मुझे हटाने के लिए अन्य शिक्षकों द्वारा खूब षडयंत्र रचे गए। मुझे वहां के स्टाफ क्वार्टर से निकाल दिया गया। तब मैंने किराये का कमरा लेकर बच्चों को पढ़ाया। लेकिन वहां भी मुझ पर हमले कराए गए। लेकिन मैंने हार नही मानी और उसके बाद विवेकानंद सतोवार्षिकी महाविद्यालय बतौर एसोसिएट प्रोफेसर ज्वाइन कर लिया। लेकिन यहां भी मुझे शिक्षिकों और शिक्षिकाओं के तिरस्कार का सामना अब तक करना पड़ता है। कई बार तो शिक्षिकों के व्यवहार से मैं इतना टूट जाती कि खाली समय में आंसू निकल पड़ते, मैंने उनसे पूछा भी मैं ऐसी हूं तो इसमें मेरी क्या गलती? मगर उनका व्यवहार आज तक भी मेरे प्रति कभी नरम नही हुआ। कॉलेज के स्टाफ में अभी तक भी कोई मुझसे ढंग से बात नही करता था। मेरे स्टूडेंट बहुत अच्छे, वो मुझे बहुत रेस्पेक्ट देते हैं। मैं ट्रांसजेंडर हूं, इसलिए मेरे साथ कॉलेज में एडमिनिस्ट्रेशन लेवल पर भी भेदभाव हुआ। मैंने 2006 में पीएचडी की, उसके बाद 2011 तक मुझे कोई इंक्रीमेंट नही दिया गया। लेकिन मैंने हार नही मानी।

शादी की मगर नही हुई सफल
मैने शादी की तो लगा कि अब सब कुछ ठीक हो रहा है मगर भगवान को कुछ ओर ही मंजूर था। मेरे पति ने शादी के कुछ दिनों बाद ही कहा कि मैं लड़की नही लड़का हूं और मैं तुम्हारे साथ नही रह सकता। इतना ही नहीं, मुझ पर मानहानि का दावा कर मेरे खिलाफ केस भी डाल दिया। 

अकेलापन दूर करने के लिए देवाशीष को किया एडाप्ट
अकेलापन इंसान को खा जाता है, घर भी सूना-सूना रहता था, 2011 में मैंने अपने एक स्टूडेंट देवाशीष को बेटे के रुप में एडाप्ट कर लिया। देवाशीष मुझे मां कहता है तो मेरी आत्मा को  बहुत सुकून मिलता है। देवाशीष के बाद मैंने कई ट्रांसजेंडरों को अपने घर में पनाह दी और उनकी मदद की। वर्तमान में मेरे घर में 4 ओर ट्रांसजेंडर रहते हैं।

खुद की मेहनत से पाया है प्रिंसिपल का पद
मैंने पिताजी शुतरन्जन बंदोपाध्याय 90 साल के हो चुके हैं। मां रेखा बंदोपाध्याय पहले ही गुजर चुकी है। पिता जी नैहाटी में रहते है और उन्हें मेरी जरूरत है। सालों बाद उन्होंने मुझे अपने पास बुलाया है। नैहाटी कस्बे के पास के ही एक कॉलेज में प्रिंसिपल की वैकंसी निकली हुई थी। मैंने पिता के पास रहने की इच्छा से वहां अप्लाई किया। मैंने रिजर्वेशन नही लिया था, मैंने जनरल कैटेगरी में अप्लाई किया था। आज कुछ लोग कहते हैं कि मुझे ऐसी ही प्रिंसिपल के पद पर बैठा दिया गया है। लेकिन सच यह है कि प्रिंसिपल बनने के लिए एसोसिएट प्रोफेसर होना, 14 साल का एक्सपीरियंस और पीएचडी डिग्री होना अनिवार्य है। मेरे पास यह तीनों थी, इसलिए मैंने अप्लाई किया और यह पद पाया।

रविन्द्रनाथ टैगोर के जीवन से बहुत कुछ सीखा है
मैंने तो तन्हाई में जीना सीखा है। तिरस्कार का घूंट पल-पल पिया है। ट्रांसजेंडर को कोई मदद नही करता। मैंने रविन्द्रनाथ टैगोर के जीवन से बहुत कुछ सीखा है। विवेकानन्द और रामकृष्णन परमहंस को अपना गुरु मानती हूं। विवेकानन्द को खूब पढ़ती हूँ। संघर्ष के दिनों में इन महापुरुषों ने ही मुझे जीने की शक्ति दी है।

ट्रांसजेंडरों को करना चाहती हूं शिक्षित
ट्रांसजेंडर सामाजिक भेदभाव के कारण पढाई से दूर हो जाते हैं और पूरी जिंदगी नाचकर गाकर ही अपना गुजरा करते हैं। यदि ट्रांसजेंडरों को भी उचित सुविधा और संसाधन मुहैया कराए जाए तो ये भी दुनिया में नाम रोशन करने का दम रखते हैँ। मेरा मकसद ट्रांसजेडरों को शिक्षित करना है, अब इसी के लिए प्रयास करुंगी।

डॉ.समीर मल्होत्रा
वरिष्ठ मनोचिकित्सक, मैक्स अस्पताल
हर इंसान की सेक्सुएलिटी एक अहम पहलू है, जैसे समाज के अंदर पुरुष का रोल है, महिला का रोल है, ऐसे ही ट्रांसजेंडर जिस रोल को एडप्ट करना चाहता है, करता है, इससे उन्हें मानसिक सुख मिलता है। इसके लिए कई बार हॉर्मोनल, जेनेटिक कारण होते है तो कई बार इवायरमेंट कारण भी जिम्मेदार होते हैं। जैसा वातावरण और माहौल बचपन में मिलता है, जैसे घर के हालात होते है वैसे ही माहौल में रहकर ट्रांसजेंडर भी अपना माहौल खुद क्रिएट करता है। ऐसा करना गलत भी नही हैं, लेकिन ट्रांसजेंडर बनने के बाद उन्हें अपनी क्षमता के अनुसार आगे बढ़ना चाहिए।

देवाशीष
एडाप्टिड चाइल्डमनाबी बंदोपाध्याय
मैं जब भी अपनी मां को मां कहकर पुकारता हो तो वह कहती है मुझे सुकून मिलता है। उन्हें देखकर मुझे भी अंदर ही अंदर एक अलग अनुभूति का एहसास होता है। लोग कहते हैं कि मम्मी ट्रांसजेंडर है, लेकिन मैं आपसे ही पूछता हूं अगर किसी बच्चें की मां मर जाती है तो तब पिता उसे मां की तरह पालता है और लोग कहते हैं कि यह इसकी मम्मी-पापा दोनों है। तो फिर क्यों एक ट्रांसजेंडर को ही अलग नजर से देखा जाता है, क्यों एक ट्रांसजेंडर मां नही हो सकतीमेरी मम्मी बेस्ट मम्मी है। मेरी मम्मी ने जो संघर्ष किया है वह मेरे लिए एक प्रेरणा है और मैं इस प्रेरणा से प्रेरित होकर अपनी मां का नाम दुनिया में रोशन करूंगा। अभी बंग्ला में एमए किया है, यहां तक मां ने ही मुझे गाइड किया। मम्मी हमेशा मुझे गाइड करती है।


2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब!
    मानबी का स्ट्रगल तो अपनक जगह है ही लेकिन देवाशीष की कही बात समाज को आइना दिखाता है। पिता या माँ दोनों का रोल निभाते हैं तो मातृत्व के क्षेत्र में मानबी के साथ अमानवीय व्यवहार क्यों?

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब!
    मानबी का स्ट्रगल तो अपनक जगह है ही लेकिन देवाशीष की कही बात समाज को आइना दिखाता है। पिता या माँ दोनों का रोल निभाते हैं तो मातृत्व के क्षेत्र में मानबी के साथ अमानवीय व्यवहार क्यों?

    उत्तर देंहटाएं